• 0,99 €

Beschreibung des Verlags

शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे को लेकर कई गलत धारणाएं हैं। उन्हीं में एक धारणा यह है कि वे अपनी इच्छा के विरुद्ध राजनीति में उतरने को मजबूर हुए लेकिन ऐसी अनेकों घटनाएं हैं जो इस धारणा को झुठलाती हैं। और इसका प्रमुख कारण यही हो सकता है कि उनका व्यत्तिफ़गत जीवन और राजनीतिक व्यत्तिफ़त्व एकदम अलग है। आज भी वे अपने फोटोग्राफी और लेखन के शौक को पूरा करना नहीं भूलते। अपने लिखने के शौक रखने के कारण उद्धव ठाकरे की आधे से ज्यादा दर्जन किताबें छप चुकी हैं जिनमें 2010 में आई ‘महाराष्ट्र देश’ पुस्तक काफी प्रचलित है। यह सही है कि उद्धव शिवसेना के आक्रामक रुख के उलट शांत नजर आते हैं। लेकिन उन्हें करीब से जानने वाले लोगों का दावा है कि उद्धव मंझे हुए राजनेता हैं और बड़े ही सभ्य एवं शांतिपूर्ण ढंग से निर्णय लेने में माहिर हैं और उनके व्यत्तिफ़त्व को पार्टी के आला दर्जे के नेता काफी सम्मान देते हैं।



लेखक: हिमांशु शर्मा का जन्म राजस्थान के अलवर जिले में पिता महेंद्र प्रताप शर्मा और मां शशि बाला शर्मा के घर हुआ। उन्होंने अपनी स्कूलिंग अलवर से पूरी की और उच्च शिक्षा राजस्थान विश्वविद्यालय से पूरी की। इसके बाद उन्होंने सिनेमा के क्षेत्र में मुंबई की ओर रुख किया। जहां वे थिएटर, फिल्म, टीवी, विज्ञापनों में सहायक निर्देशक के रूप में जुडे रहे।
लेखन के क्षेत्र से वे एक राजस्थानी फिल्म को लिखकर जुडे और इसके बाद वीर तानाजी मालुसरे की जीवनी से संबंधित उपन्यास लिखकर वे पुस्तक प्रकाशन से जुडे और कई पुस्तकें लिखी। इसके अलावा कई लघु फिल्म, टी.वी. विज्ञापन भी वे लिख चुके हैं।

GENRE
Biografien und Memoiren
ERSCHIENEN
2019
3. Dezember
SPRACHE
HI
Hindi
UMFANG
30
Seiten
VERLAG
Diamond Pocket Books
GRÖSSE
437.1
 kB

Mehr Bücher von Himanshu Sharma