• 15,00 kr

Utgivarens beskrivning

९ अक्टूबर २०१२ का दिन था. मलाला अपने सहपाठियों के साथ इम्तेहान के दिन स्कूल से घर वापिस आ रही थी. उस स्कूल की स्थापना मलाला के पिता ने की थी.

अचानक एक जगह सड़क पर एक नौजवान ने हाथ हिलाकर बस को रोका और बस के अंदर घुस गया. उसने पूछा, "मलाला कौन है?"

जब बस के अंदर बैठी हुई सभी लड़कियां मलाला की तरफ देखने लगी उस नौजवान ने एक बन्दूक निकाल ली और उसके चेहरे पर गोली दाग दी. उसने दो गोलियां और चलायी और वो गोलियां साथ बैठी लड़कियों को लगी.

GENRE
Uppslagsböcker
UTGIVEN
2018
13 november
SPRÅK
HI
Hindi
LÄNGD
33
Sidor
UTGIVARE
Raja Sharma
STORLEK
179.5
KB

Fler böcker av Raja Sharma